Type Here to Get Search Results !

Physical Department of Rajasthan(राजस्थान के भौतिक विभाग) Hindi&English

1
राजस्थान के भौतिक विभाग अब हिंदी और अंग्रेजी में
Note:- हिंदी में पढ़ने के लिए निचे जाये

English:-
Physical Department of Rajasthan

 In the early period of its construction, the Earth was divided into a large landmass Pangea and a huge ocean Panthalasa, in Kalantar, the two parts of Pangea, northern part Angaraland and southern part came to be known as Godwanaland.  And the sea area between these two plots is called Tethis Sagar.  The western desert region of Rajasthan and the salt water lakes located therein are the remains of the Tethys Sea.  While the central mountainous region of Rajasthan and the southern plateau region are the remains of Godwanaland.

 Rajasthan is generally divided into four physical divisions: -

 Western Desert Region Aravali Mountain Region Eastern Plains Territory Eastern Plateau Part

 1. Western Desert Region

 The region west of the Aravalli ranges of Rajasthan is a dry and semi-arid desert region.  It is a unique geographical region.  Which is known as the great desert of India or the desert of Thar.  The Thar Desert is the most populated and forested vegetation desert in the world.  Ishwari Singh has called the Thar Desert as a safe zone.  It is 61 percent of the total area of ​​the state.  In this region, 40 percent of the state's population lives. Saraswati river flowed through this region during ancient times.  Chandan tubewell has been established in Chandan village of Jaisalmer district in the Saraswati river flow area.  Which is called Thar ka Ghara.

 It is spread over 12 districts of Barmer, Jaisalmer, Bikaner, Jodhpur, Pali, Jalore, Nagaur, Sikar, Churu Jhujhunu, Hanumangarh and Ganganagar.  Due to this difference, it is divided into 4 sub-states -

 Dry sandy desert or desert. Luni - Jawi basin Shekhawati region

 1 dry sandy or desert region

 It averages 25 cm of annual rainfall.  is less than.  It includes Jaisalmer, Barmer, Bikaner and Jodhpur and western parts of Churu districts.  There is an expansion of sand dunes - stupas everywhere in these regions.

 Sevan meadows are found in Jaisalmer district of the Western Registan region.  Which is famous as the geological water strip.  Which are called lathi series.

 The remains and fossils of about 18 crore years old trees have been found in Jaisalmer district of western desert region.  Named as "Akal Wood Faces Park".  Petroleum and natural gas deposits have been found in Jaisalmer, Barmer, Bikaner districts of the western desert region.

 2 Luni - Jawi Basin

 It is a semi-arid region.  In which Luni and its major river Jawai and other tributaries flow.  It extends into Pali, Jalore, Jowdhpur and the southern part of Nagaur district.  It is a riverless building.  Which is known as the Luni Basin.

 3 Shekhawati region

 It is known as Bangar Pradesh.  Shekhawati region is spread in Jhjhunu, Sikar, Churu and northern part of Nagaur district.  There are many saltwater troughs (runs) in this state, in which Didwana, Degana, Sujangarh, Talchapar, Parihara, Kuchaman etc. are prominent.

 4 gallery

 The plains of Ganganagar Hanumangarh districts have been formed by the flooding of the flow area of ​​Ghaggar.

 Fact

 The hottest state of India is the western dry state of Rajasthan.

 Temporary lakes formed by filling rainwater in the low land between the dunes are called tat or run in the local language.

 12 districts of Rajasthan Sri Ganganagar, Hanumangarh, Bikaner, Nagaur, Churu, Jhunjhunu, Jodhpur, Barmer, Jaisalmer, Pali, Jalore and Sikar were declared desert by the National Agriculture Commission.

 In the desert region, the sandstone stupas, which are parallel to the direction of the winds, are called inert sand, the right-angled sandy stupas are called transverse sand.

 Erg: - Complete sandy desert (Jaisalmer) Hammad: - Complete rocky desert (Jodhpur) Wrang: - The following types of sandy stupas are found in the desert area and sandy (mixed desert) desert area.  Baluka Stupa (Straight)

 2. Aravalli Mountain Region

 The Aravali mountain range is situated in the middle of the state.  It is the oldest mountain tree in the world.  This mountain range dates back to the Sri Cambrian (Poliozoic) era.  This mountain range is from south-west to north-east.  Chadai and altitude of this mountain range are higher in the southwest.  Which gradually decreases in the northeast.  It starts from Palanpur in Gujarat in the southwest and extends to Delhi in the northeast.  Whereas in Rajasthan, it is 550 km from Shrinkhala Khedbrahma (Sirohi) to Khetri (Jhunjhunu).  It is long, which is 80 percent of the total mountain range.

 The Aravalli mountain range divides Rajasthan into two unequal parts.  The Aravali hill region extends into the seven districts of the state, Sirohi, Udaipur, Rajsamand, Ajmer, Jaipur, Dausa and Alwar.  The average elevation of the Aravalli ranges is 930 meters above sea level.

 It is 9.3 percent of the total area of ​​the state.  The region is home to 10 percent of the state's population.

 The Aravalli ranges are divided into three major sub-regions on the basis of height.

 South Aravali region: Middle Aravali region - Northern Aravalli region

 1 South Aravalli Region

 This includes Sirohi Udaipur and Rajsamand.  It is a fully mountainous region in this region, Gurushkhat (1722 m) is located in Mount Abu region in Sirohi district, which is the highest mountain peak of Rajasthan.

 The other major peaks here are: -

 Ser (Sirohi) - 1597 m.  , Delvada (Sirohi) -1442 m.  , Jarga-1431 m.  , Achalgarh - 1380 m.  , Kumbhalgarh (Rajsamand) - 1224 m.

 Major Pass (Naal): - Jalwa Ki Naal (Pagalya Naal) - This is the way from Marwar to Mewar.

 The trough pass of Someshwar's drain is very close to the fort of Kumbhalgarh.

 Sarupghat, Desuri's Nal (Pali), Dewar and Haldi Valley Pass (Rajsamand) etc. are prominent.

 The Odia plateau adjoining the Abu Mountains is about 160 m from Abu.  Is high  And Gurushkhata is situated below the Khukya peak.  James Todd called Gurushakh the peak of saints.  It is the highest peak between the Himalayas and the Nilgiris.

 2 intermediate Aravali region

 It is mainly spread in Ajmer district.  The region also has narrow valleys and flat terrains with mountain ranges.  Taragarh (870 m) in the south-west of Ajmer and the Sarpilakar mountain ranges in the west are called Nag Pahar (795 m).

 Major Pass: - Barr, Parverian, Shivpur Ghat, Sura Ghat, Debari, Jheelwada, Kachchwali, Peepli, Anria etc.

 3 North - Eastern Aravalli Region

 The area is spread over Jaipur, Dausa and Alwar districts.  In this region, the Aravalli ranges do not become continuous, but they get worse.  The general height of the hills in this area is 450 to 700 m.  is.  Major Peaks of this state: - Raghunathgarh (Sikar) - 1055 m.  , Khoh (Jaipur) - 920 m.  , Bherach (Alwar) -792 m.  , Barwara (Jaipur) -786m.

 3. Eastern plains

 The eastern plain is located in the eastern part of the Aravalli range and the southern part of the south-eastern plateau.  This plain is 23.3 percent of the total area of ​​the state.  The region is home to 39 percent of the state's population.  The area includes - Bharatpur, Alwar, Dhaulpur, Karauli, Sawaimadhopur, Jaipur, Dausa, Tonk, Bhilwara and the plains of Dungarpur, Banswara and Pratapgarh districts from the south.  This region is a river basin region, that is, this region is formed from the soil deposited by the rivers.  Irrigation by wells is more in this region.  There are three sub-regions of this plain region.

 Banas- Banganga Basinchambal BasinMadhi Mahi Basin

 1 Banas - Banganga Basin

 It is an extensive plain formed by the Banas and its tributaries. It is an extensive plain formed by the rivers Banas and its tributaries Banganga, Berach, Dane, Mansi, Sodra, Khari, Bhosi, Morale etc. which has a gradient from the east.

 2 chambal basins

 This includes the area of ​​Kota, Sawaimadhopur, Karauli and Dhaulpur districts.  The area of ​​Kota is included in Hadauti, but the plains area of ​​Chambal is located here.  Chambal is rugged in Sawaimadhopur, Karauli and Dhaulpur in this state.  This is a highly chopped area, with a flat area between them.

 3 Middle Mahi Basin or fifty six Plain

 It extends from the south east of Udaipur to the districts of Dungarpur, Banswara and Pratapgarh.  Mahi, coming out of Madhya Pradesh and passing through this region, falls in the pillar of the pillar.  This area is called by the name of Vagad and in the central part of Pratapgarh and Banswara, there is a Chappan village group.  Therefore, this terrain is also known as Chhappan Maidan.

 4. Plateau part of southeast

 It is 9.6 percent of the total area of ​​the state.  The region is home to 11 percent of the state's population.  This region of Rajasthan consists of four districts of the state, Kota, Bundi, Banra, Jhalawar. The main river of this plateau Bhag is Chambal river and its tributaries are Parvati, Kalisiddh, Parvan, Nivaz, etc.  There are rivers of this plateau.  The average rainfall in this region is 80 to 100 cm.  Is an annual.  Jhalawar district of Rajasthan is the highest rainfall receiving district of the state and it is the only Andhra district in the state.  The area is rich in medium black soil.  Which is very useful for cotton, peanuts.  This plateau is the "Sankranti pradesh" (Jtandepjapavadans Imasj) between the Aravalli and Vidyanchal ranges.

 The southern-eastern plateau is divided into two parts.

 Hadoti Plateau - Kota, Bandi, Banra, Jhalawar Vindhyan Kagar Bhoomi - Dholpur.  Karauli, Sawaimadhopur

हिंदी में:-
राजस्थान के भौतिक विभाग

 पृथ्वी अपने निर्माण के प्रराम्भिक काल में एक विशाल भू-खण्ड पैंजिया तथा एक विशाल महासागर पैंथालासा के रूप में विभक्त था कलांन्तर में पैंजिया के दो टुकडे़ हुए उत्तरी भाग अंगारालैण्ड तथा दक्षिणी भाग गोडवानालैण्ड के नाम जाना जाने लगा। तथा इन दोनों भू-खण्डों के मध्य का सागरीय क्षेत्र टेथिस सागर कहलाता है। राजस्थान का पश्चिमी रेगिस्तानी क्षेत्र तथा उसमें स्थित खारे पानी की झीलें टेथिस सागर का अवशेष है। जबकि राजस्थान का मध्य पर्वतीय प्रदेश तथा दक्षिणी पठारी क्षेत्र गोडवानालैण्ड का अवशेष है।

 राजस्थान को समान्यतः चार भौतिक विभागो में बांटा जाता हैः-

 पश्चिमी मरूस्थली प्रदेशअरावली पर्वतीय प्रदेशपूर्वी मैदानी प्रदेशदक्षिणी पूर्वी पठारी भाग

 1. पश्चिमी मरूस्थली प्रदेश

 राजस्थान का अरावली श्रेणीयों के पश्चिम का क्षेत्र शुष्क एवं अर्द्धशुष्क मरूस्थली प्रदेश है। यह एक विशिष्ठ भौगोलिक प्रदेश है। जिसे भारत का विशाल मरूस्थल अथवा थार का मरूस्थल के नाम से जाना जाता है। थार का मरूस्थल विश्व का सर्वाधिक आबाद तथा वन वनस्पति वाला मरूस्थल है। ईश्वरी सिंह ने थार के मरूस्थल को रूक्ष क्षेत्र कहा है। राज्य के कुल क्षेत्रफल का 61 प्रतिशत है। इस क्षेत्र में राज्य की 40 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है।प्राचिन काल में इस क्षेत्र से होकर सरस्वती नदि बहती थी। सरस्वती नदी के प्रवाह क्षेत्र के जैसलमेर जिले के चांदन गांव में चांदन नलकुप की स्थापना कि गई है। जिसे थार का घडा कहा जाता है।

 इसका विस्तार बाड़मेर, जैसलमेर, बिकानेर, जोधपुर, पाली, जालोर, नागौर,सीकर, चुरू झूझूनु, हनुमानगढ़ व गंगानगर 12 जिलों में है।संपुर्ण पश्चिमी मरूस्थलिय क्षेत्र समान उच्चावच नहीं रखता अपीतु इसमें भिन्नता है। इसी भिन्नता के कारण इसको 4 उपप्रदेशों में विभक्त किया जाता है-

 शुष्क रेतिला अथवा मरूस्थलि प्रदेशलूनी- जवाई बेसीनशेखावाटी प्रदेशघग्घर का मैदान

 1 शुष्क रेतीला अथवा मरूस्थलि प्रदेश

 यह वार्षिक वर्षा का औसत 25 सेमी. से कम है। इसमें जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर एवं जोधपुर और चुरू जिलों के पश्चिमी भाग सम्मलित है। इन प्रदेश में सर्वत्र बालुका - स्तुपों का विस्तार है।

 पश्चिमी रेगीस्तान क्षेत्र के जैसलमेर जिले में सेवण घास के मैदान पाए जाते है। जो कि भूगर्भिय जल पट्टी के रूप में प्रसिद्ध है। जिसे लाठी सीरिज कहलाते है।

 पश्चिमी रेगिस्तानी क्षेत्र के जैसलमेर जिले में लगभग 18 करोड़ वर्ष पुराने वृक्षों के अवशेष एवं जीवाश्म मिले है। जिन्हें "अकाल वुड फाॅसिल्स पार्क" नाम दिया है। पश्चिमी रेगिस्तान क्षेत्र के जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर जिलों में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैसों के भंडार मिले है।

 2 लुनी - जवाई बेसीन

 यह एक अर्द्धशुष्क प्रदेश है। जिसमें लुनी व इसकी प्रमुख नदी जवाई एवं अन्य सहायक नदियां प्रवाहित होती है। इसका विस्तार पालि, जालौर, जौधपुर व नागौर जिले के दक्षिणी भाग में है। यह एक नदि निर्मीत मैदान है। जिसे लुनी बेसिन के नाम से जाना जाता है।

 3 शेखावाटी प्रदेश

 इसे बांगर प्रदेश के नाम से जाना जाता है। शेखावटी प्रदेश का विस्तार झुझुनू, सीकर, चुरू तथा नागौर जिले के उतरी भाग में है। इस प्रदेश में अनेक नमकीन पानी के गर्त(रन) हैं जिसमें डीडवाना, डेगाना, सुजानगढ़, तालछापर, परीहारा, कुचामन आदि प्रमुख है।

 4 घग्घर का मैदान

 गंगानगर हनुमानगढ़ जिलों का मैदानी क्षेत्र का निर्माण घग्घर के प्रवाह क्षेत्र के बाढ़ से हुआ है।

 तथ्य

 भारत का सबसे गर्म प्रदेश राजस्थान का पश्चिमी शुष्क प्रदेश है।

 टीलों के बीच की निम्न भूमी में वर्षा का जल भरने से बनी अस्थाई झीलों को स्थानीय भाषा में टाट या रन कहा जाता है।

 राष्ट्रीय कृषि आयोग द्वारा राजस्थान के 12 जिलों श्री गंगानगर, हनुमानगढ, बीकानेर, नागौर, चुरू, झुझुनू, जोधपुर, बाड़मेर, जैसलमेर, पाली, जालौर व सीकर को रेगिस्तानी घोषित किया।

 मरूस्थलिय क्षेत्र में पवनों की दिशा के समान्तर बनने वाले बालूका स्तुपों को अनुर्देश्र्य बालूका, समकोण बनाने वाले बालूका स्तुपों को अनुप्रस्थ बालुका कहतें है।

 इर्ग:- सम्पूर्ण रेतीला मरूस्थल (जैसलमेर)हम्माद:- सम्पूर्ण पथरीला मरूस्थल (जोधपुर)रैंग:- रेतीला और पथरीला (मिश्रित मरूस्थल)रेगिस्तानी क्षेत्र में बालूका स्तूपों के निम्न प्रकार पाये जाते है।अनुप्रस्थ:- पवन/वायु की दिषा में बनने वाले बालुका स्तूप (सीधे)अनुदैध्र्य :- आडे -तीरछे बनने वाले बालुका स्तूपबरखान :- रेत के अर्द्धचन्द्राकार बालुका स्तूप

 2. अरावली पर्वतीय प्रदेश

 राज्य के मध्य अरावली पर्वत माला स्थित है। यह विश्व की प्राचीनतम वलित पर्वत माला है। यह पर्वत श्रृंखला श्री केम्ब्रियन (पोलियोजोइक) युग की है। यह पर्वत श्रृखला दंिक्षण-पश्चिम से उतर-पूर्व की ओर है। इस पर्वत श्रृंखला की चैडाई व ऊंचाई दक्षिण -पश्चिम में अधिक है। जो धीरे -धीरे उत्तर-पूर्व में कम होती जाती है। यह दक्षिण -पश्चिम में गुजरात के पालनपुर से प्रारम्भ होकर उत्तर-पूर्व में दिल्ली तक लम्बी है। जबकि राजस्थान में यह श्रंृखला खेडब्रहमा (सिरोही) से खेतड़ी (झुनझुनू) तक 550 कि.मी. लम्बी है जो कुल पर्वत श्रृंखला का 80 प्रतिशत है।

 अरावली पर्वत श्रंृखला राजस्थान को दो असमान भागों में बांटती है। अरावली पर्वतीय प्रदेश का विस्तार राज्य के सात जिलों सिरोही, उदयपुर, राजसमंद, अजमेर, जयपूर, दौसा और अलवर में। अरावली पर्वतमाला की औसत ऊँचाई समुद्र तल से 930 मीटर है।

 राज्य के कुल क्षेत्रफल का 9.3 प्रतिशत है। इस क्षेत्र में राज्य की 10 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है।

 अरावली पर्वतमाला को ऊँचाई के आधार पर तीन प्रमुख उप प्रदेशों में विभक्त किया गया है।

 दक्षिणी अरावली प्रदेशमध्यवर्ती अरावली प्रदेशउतरी - पूर्वी अरावली प्रदेश

 1 दक्षिणी अरावली प्रदेश

 इसमें सिरोही उदयपुर और राजसमंद सम्मिलित है। यह पुर्णतया पर्वतीय प्रदेश है इस प्रदेश में गुरूशिखर(1722 मी.) सिरोही जिले में मांउट आबु क्षेत्र में स्थित है जो राजस्थान का सर्वोच्च पर्वत शिखर है।

 यहां की अन्य प्रमुख चोटियां निम्न है:-

 सेर(सिरोही)-1597 मी. , देलवाडा(सिरोही)-1442 मी. , जरगा-1431 मी. , अचलगढ़- 1380 मी. , कुंम्भलगढ़(राजसमंद)-1224 मी.

 प्रमुख दर्रे(नाल)ः- जीलवा कि नाल(पगल्या नाल)- यह मारवाड से मेवाड़ जाने का रास्ता है।

 सोमेश्वर की नाल विकट तंग दर्रा,हाथी गढ़ा की नाल कुम्भलगढ़ दुर्ग इसी के पास बना है।

 सरूपघाट, देसुरी की नाल(पाली) दिवेर एवं हल्दी घाटी दर्रा(राजसमंद) आदि प्रमुख है।

 आबू पर्वत से सटा हुआ उडि़या पठार आबू से लगभग 160 मी. ऊँचा है। और गुरूशिखर खुख्य चोटी के नीचे स्थित है। जेम्स टाॅड ने गुरूशिखर को सन्तों का शिखर कहा जाता है। यह हिमालय और नीलगिरी के बीच सबसे ऊँची चोटी है।

 2 मध्यवर्ती अरावली प्रदेश

 यह मुख्यतयः अजमेर जिले में फेला है। इस क्षेत्र में पर्वत श्रेणीयों के साथ संकरी घाटियाँ और समतल स्थल भी स्थित है। अजमेर के दक्षिणी पश्चिम में तारागढ़(870 मी.) और पश्चिम में सर्पीलाकार पर्वत श्रेणीयां नाग पहाड़(795 मी.) कहलाती है।

 प्रमुख दर्रे:- बर, परवेरियां, शिवपुर घाट, सुरा घाट, देबारी, झीलवाडा, कच्छवाली, पीपली, अनरिया आदि।

 3 उतरी - पुर्वी अरावली प्रदेश

 इस क्षेत्र का विस्तार जयपुर, दौसा तथा अलवर जिले में है। इस क्षेत्र में अरावली की श्रेणीयां अनवरत न हो कर दुर - दुर हो जाती है। इस क्षेत्र में पहाड़ीयों की सामान्य ऊँचाई 450 से 700 मी. है। इस प्रदेश की प्रमुख चोटियां:- रघुनाथगढ़(सीकर)- 1055 मी. ,खोह(जयपुर)-920 मी. , भेराच(अलवर)-792 मी. , बरवाड़ा(जयपुर)-786 मी.।

 3. पूर्वी मैदानी भाग

 अरावली पर्वत के पूर्वी भाग और दक्षिणी-पूर्वी पठारी भाग के दक्षिणी भाग में पूर्व का मैदान स्थित है। यह मैदान राज्य के कुल क्षेत्रफल का 23.3 प्रतिशत है। इस क्षेत्र में राज्य की 39 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है। इस क्षेत्र में - भरतपुर, अलवर, धौलपुर, करौली, सवाईमाधोपुर, जयुपर, दौसा, टोंक, भीलवाडा तथा दक्षिण कि ओर से डुंगरपुर, बांसवाडा ओर प्रतापगढ जिलों के मैदानी भाग सम्मिलित है। यह प्रदेश नदी बेसिन प्रदेश है अर्थात नदियों द्वारा जमा कि गई मिट्टी से इस प्रदेश का निर्माण हुआ है। इस प्रदेश में कुओं द्वारा सिंचाई अधिक होती है। इस मैदानी प्रदेश के तीन उप प्रदेश है।

 बनास- बांणगंगा बेसीनचंम्बल बेसीनमध्य माही बेसीन

 1 बनास- बांणगंगा बेसीन

 बनास और इसकी सहायक नदियों द्वारा निर्मित यह एक विस्तृत मैदान है यह मैदान बनास और इसकी सहायक बाणगंगा, बेड़च, डेन, मानसी, सोडरा, खारी, भोसी, मोरेल आदि नदियों द्वारा निर्मीत यह एक विस्तृत मैदान है जिसकी ढाल पूर्व की और है।

 2 चम्बल बेसीन

 इसके अन्तर्गत कोटा, सवाईमाधोपुर, करौली तथा धौलपुर जिलों का क्षेत्र सम्मिलित है। कोटा का क्षेत्र हाड़ौती में सम्मिलित है किंतु यहां चम्बल का मैदानी क्षेत्र स्थित है। इस प्रदेश में सवाईमाधोपुर, करौली एवं धौलपुर में चम्बल के बीहड़ स्थित है। यह अत्यधिक कटा- फटा क्षेत्र है, इनके मध्य समतल क्षेत्र स्थ्ति है।

 3 मध्य माही बेसीन या छप्पन का मैदान

 इसका विस्तार उदयपुर के दक्षिण पुर्व से डुंगरपुर, बांसवाडा और प्रतापगढ़ जिलों में है। माही मध्य प्रदेश से निकल कर इसी प्रदेश से गुजरती हुई खंभात कि खाडी में गिरती है। यह क्षेत्र वागड़ के नाम से पुकारा जाता है तथा प्रतापगढ़ व बांसवाड़ा के मध्य भाग में छप्पन ग्राम समुह स्थित है। इसलिए यह भू-भाग छप्पन के मैदान के नाम से भी जाना जाता है।

 4. दक्षिण-पूर्व का पठारी भाग

 राज्य के कुल क्षेत्रफल का 9.6 प्रतिशत है। इस क्षेत्र में राज्य की 11 प्रतिशत जनसंख्या निवास करती है। राजस्थान के इस क्षेत्र में राज्य के चार जिले कोटा, बूंदी, बांरा, झालावाड़ सम्मिलित है।इस पठारी भग की प्रमुख नदी चम्बल नदी है और इसकी सहायक नदियां पार्वती, कालीसिद्ध, परवन, निवाज, इत्यादि भी है। इस पठारी भाग की नदीयां है। इस क्षेत्र में वर्षा का औसत 80 से 100 से.मी. वार्षिक है। राजस्थान का झालावाड़ जिला राज्य का सर्वाधिक वर्षा प्राप्त करने वाला जिला है और यह राज्य का एकमात्र अति आन्र्द्र जिला है। इस क्षेत्र में मध्यम काली मिट्टी की अधिकता है। जो कपास, मूंगफली के लिए अत्यन्त उपयोगी है। यह पठारी भाग अरावली और विध्यांचल पर्वत के बीच "सक्रान्ति प्रदेष" ( ज्तंदेपजपवदंस इमसज) है।

 दक्षिणी-पूर्वी पठारी भाग को दो भागों में बांटा गया है।


 हाडौती का पठार - कोटा, बंूदी, बांरा, झालावाड़विन्ध्यन कगार भूमि - धौलपुर. करौली, सवाईमाधोपुर

Post a Comment

1 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad